उद्धव ठाकरे ने पालघर घटना पर दिया बयान (फाइल फोटो)

मुंबई:

महाराष्ट्र के पालघर जिले में तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या के मामले (Palghar Mob Lynching) में सोमवार राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray)  ने बयान दिया. उन्होंने कहा कि हमने दो पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया है और मामले की जांच की जिम्मेदारी एडीजी सीआईडी क्राइम अतुल चंद्र कुलकर्णी को सौंपी है. उन्होंने बताया कि इस मामले में 5 मुख्य आरोपियों के साथ 100 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उद्धव ने बताया कि इस पूरी घटना में कुछ भी सांप्रदायिक नहीं है. मैंने आज सुबह गृह मंत्री अमित शाह से बात की है. गृह मंत्रालय के पालघर मॉब लिचिंग पर महाराष्ट्र सरकार से रिपोर्ट मांगी है. 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, लॉकडाउन को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा, किसी को यह नहीं सोचना चाहिए कि लॉकडाउन को हटा दिया गया है. हमने सिर्फ अर्थव्यवस्था को थोड़ी रफ्तार देने की कोशिश करने के लिए यह कदम उठाया है. मैंने सुना है कि कुछ लोग लॉकडाउन में दी गई छूट को लॉकडाउन की समाप्ति के रूप में मान रहे हैं. यदि वे इस तरह का व्यवहार करते रहे तो हम सख्त कदम उठाएंगे. 

महाराष्ट्र के पालघर में गुरुवार रात ग्रामीणों में तीन लोगों की चोर समझकर पीट-पीटकर हत्या कर दी थी, उनकी पहचान 35 साल के सुशीलगिरी महाराज और 70 साल के चिकणे महाराज कल्पवृक्षगिरी के रूप में हुई जबकि 30 साल का निलेश तेलगड़े ड्राइवर था. कासा पुलिस थाने के गडचिंचले के ग्रामीणों ने गुरुवार की रात पहले इनकी कार रोकी, फिर पत्थरों और कोयते से निर्मम हत्या कर दी. 

हैरान करने वाली बात यह है कि सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंचकर जब इन्हें अपनी जीप में भरकर ले जाने लगी तब ग्रामीणों ने पुलिस पर भी हमला कर दिया. पुलिस जीप व घायलों को छोड़ भाग खड़ी हुई. इस हमले में कुछ पुलिस वाले भी घायल हुए हैं. कासा पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर 110 लोगों को हिरासत में लिया है.

वीडियो: Maharashtra के पालघर में 3 लोगों की पीट-पीट कर हुई थी हत्या”

वेब
स्टोरीज़





Source link